Donate to IndiaSpend

इंडियास्पेंड की पुरस्कृत-खोजी पत्रकारिता का समर्थन करें।

इंडियास्पेंड को आपकी ओर से दिए गए अनुदान से आपको टैक्स में राहत तो होगी ही, आपके योगदान से हमें, और देश भर के अन्य प्रकाशनों में मदद मिलेगी। हम उन महत्वपूर्ण रिपोर्ट्स को प्रकाशित करेंगे , जो आमतौर पर सामने नहीं आती हैं – ये वे रिपोर्ट्स हैं, जिनसे फर्क पड़ता है!

अनुदान

Latest Stories

भारतीय लड़कियों के होते हैं सपने, लेकिन विपरीत परिस्थिति और अवसर के अभाव का करती हैं सामना

  ( 19 वर्षीय फरहीन चौधरी, मुंबई के सबसे बड़े मलिन बस्तियों में से एक, गोवंडी में काम करने वाली गैर-लाभकारी संस्था, अपनालया में एक संरक्षक यानी मेंटर के रूप में काम करती है। )   मुंबई: 19 वर्षीय फरहीन चौधरी के 21 वर्षीय भाई ने बुला कर कहा, “अब कबड्डी नहीं खेलना है। यह … Continued

ट्रेनी फर्स्ट ऑफिसर गरिमा श्योराण की कहानी, और भारत की महिलाओं का उदय

  सेंट्रल उत्तर प्रदेश के फुर्सतगंज हवाई क्षेत्र में, भारत के राष्ट्रीय उड़ान स्कूल, ‘इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी’ (आईजीआरयूए) में, अपने बैचमेट्स के साथ ट्रेनी फर्स्ट ऑफिसर गरिमा श्योराण     मुंबई: 2016 में, जब 17 वर्षीय गरिमा श्योराण को उत्तर प्रदेश के सेंट्रल जिले के अमेठी के फुर्सतगंज एयरफील्ड में भारत के राष्ट्रीय उड़ान … Continued

भारत में विरासत कानून में सुधार से अनजाने में कन्या भ्रूण हत्या और शिशु मृत्यु में बढ़ावा

  मुंबई: भारत के भेदभावपूर्ण और महिला विरोधी विरासत कानूनों में 20 वर्षों में हुए सुधार महिलाओं की सामाजिक-आर्थिक स्थिति को बढ़ाने में मदद कर सकता था। लेकिन एक नए अध्ययन के मुताबिक ऐसा प्रतीत होता है कि ये सुधार समाज में लंबे समय से बेटों के लिए तय वरीयता को कम करने में विफल … Continued

आखिर क्यों भारतीय श्रमशक्ति में शहरी महिलाओं की तुलना में ग्रामीण महिलाओं की संख्या तेजी से हो रही है कम?

  मुंबई: शहरी श्रमशक्ति में महिलाओं की मौजूदगी के मुकाबले ग्रामीण श्रमशक्ति में महिलाओं की संख्या तेजी से गिर रही है। यह जानकारी सरकारी आंकड़ों पर इंडियास्पेंड द्वारा किए गए विश्लेषण में सामने आई है।   1990 के दशक की शुरुआत से निरंतर उच्च आर्थिक विकास ने भारत की महिलाओं के बीच शिक्षा और स्वास्थ्य … Continued

जमीन और घर से बेदखल किसानों की विधवाएं मांग रही हैं अपना हक और सरकार का सहयोग

  ( महिला किसान अधिकार मंच (मकाम) द्वारा आयोजित एक रैली में सरकार से अपने अधिकार मांगने के लिए 21 नवंबर को मुंबई के आजाद मैदान में महाराष्ट्र के महिला किसानों का प्रदर्शन। महाराष्ट्र में विधान परिषद के शिवसेना सदस्य नीलम गोरे ने भी इस अभियान में भाग लिया।) मुंबई: 21 नवंबर, 2018 को, महाराष्ट्र भर … Continued